Paperdom Founder: एक साइड किमोथेरेपी चल रही है दूसरी साइड 2.5 करोड़ की कंपनी चला रही है ये लड़की, देखिये एक जुनून की कहानी

Paperdom Founder: सूरत एक नया उभरता बिज़नेस हब बनने जा रहा है। वह ही इस शहर के शौर में एक लड़की अपना सपना पूरा करने के लिए मेहनत कर रही है। आपने भी कई सपने देखे होंगे लेकिन हम इतनी मेहनत नहीं करते जितनी इस लड़की ने की होगी। चलिए आज बात करते है ऐसी ही एक सक्सेस स्टोरी(Paperdom Founder) की। पूरी जानकारी के लिए अंत तक बने रहे।

हलचल भरे शहर के बीचोबीच सपनों से भरा एक छोटा सा कमरा था। यहीं से पेपरडॉम कंपनी की कहानी शुरू हुई, जो जुनून, नवीनता और दुनिया को बदलने की प्रतिबद्धता की कहानी है।

उनका सपना सरल लेकिन शक्तिशाली था। कागज उद्योग को टिकाऊ और पर्यावरण-अनुकूल बनाकर उसमें क्रांति लाना। उन्होंने एक ऐसी दुनिया की कल्पना की जहां कागज के हर टुकड़े का एक उद्देश्य हो, जहां गुणवत्ता पर्यावरणीय जिम्मेदारी के साथ मेल खाती हो।

उनको ने हाल ही में दैनिक भास्कर के साथ इंटरव्यू में किया था हमने उन्हो ने बहुत सारी बात की है।

Paperdom की फाउंडर का नाम है रितु जैन। उनके साथ उनकी माता उनकी मदद करती है। उनको हाल ही फरवरी में ब्रेस्ट कैंसर का पता चला। पेपरडोम यानी के फाइबर से यानी केले की छल, डालियो को प्रोसेस कर के पेपर बनाती है। ये पेपर से कार्डबोर्ड, पैकेजिंग और कॉर्पोरेट गिफिंग जैसे उत्पाद बनती है।

Paperdom Founder रितु के बारे में जानते हैं।

रितु का परिवार झारखंड से है वो लोग 30 साल पहले सूरत में आके बस गए हैं। उनके पिताजी का छोटा सा प्रिंटिंग का प्रेस था। सब यहीं छोटे से धंधे पे चलता था।

बाद में रितु ने आईआईटी बॉम्बे से बायो साइंस में फेलोशिप की शुरुआत की। लेकिन उनको कला, ड्राइंग, स्केचिंग में ज्यादा दिलचस्पी थी। बचपन से ही पर्यावरण में फ़ायदा हो ऐसा कुछ बनने में रुचि थी। आईआईटी की पढ़ाई बहुत सी रिसर्च के बाद उन्हें मालूम हुआ कि विदेश में हाथी की पॉटी से पेपर बनता है। हमें “केले के रेशे” के बारे में पता चल गया है। फ़िर रितु ने 2 साल तक पेपर बनाया लेकिन पेपर नहीं बना था।

Paperdom Founder
Paperdom Founder

Investment

शुरुआत मैं रितु ने 40 लाख का निवेश ये कंपनी में कर दिया था। बाद में धीमे धीमे उनको सफलता मिलती गयी तो उन्हों ने इन्वेस्टमेंट बढ़ा दिया।

तक़लीफ़ क्या आयी?

जब कंपनी की शुरुआत की थी तब गांव गांव जाकर किसान से मिलना पड़ता था, वाहा से वो केले का बर्बादी खरीदते थे। शुरुआत में वो शक करता था कि ये एक लड़की कैसे बिजनेस कर सकती है। वो पूछते हैं कंपनी का बॉस कहां पे है?

रितु अभी ऑनलाइन, ऑफलाइन दोनों जगह पे सेलिंग करती है।

मुझे शुरू करते हुए रितु को कोई ऑर्डर नहीं आता था। 1-2 ऑर्डर आये बाद में कुछ नहीं आया ऐसा चल रहा था लेकिन अभी उनको रोज़ के 10000 ऑर्डर मिलते हैं।

ऐसी दुनिया में जहां कागज को अक्सर हल्के में लिया जाता है, पेपरडॉम कंपनी की कहानी एक अनुस्मारक है कि सबसे सरल चीजें भी गहरा प्रभाव डाल सकती हैं। यह आशा, लचीलेपन और इस विश्वास की कहानी है कि भविष्य को वे लोग आकार दे सकते हैं जो सपने देखने का साहस करते हैं।

अमेज़न पे “पेपरडोम” की Products List

हम आशा करते है की आपको Paperdom Founder के लेख में उनके बारे में सारी जानकारी मिल गई होगी। अगर आपको भी यह लेख अच्छा लगा तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करे ताकि उनको भी इसके बारे में जानकारी मिल सके। ऐसे ही मजेदार लेख के लिए livenews9.co.in पढ़ते रहिए।

ALSO READ: Hurun Report 2023 India: कहां के देश के 119 अमीर लोग रोज इतने का दान करते हैं। एक साल में 8445 करोड़ का दान किया है।

Leave a comment

OPPO A18 Discount मिल रहा है 1000 रुपये का डिस्काउंट, सिर्फ ₹8,999 में फ़ोन मिलने वाला है Top 5 scam movies : घोटाले पे बनी यह 5 फिल्म आपको जरूर देखनी चाहिए Tank 2 Smartphone आ रहा है 15500 mAh की बैटरी के साथ , जानिये फीचर्स Tecno Phantom V Fold 5G Features Asus ROG Phone 8 Launch Date in india जानिए फीचर्स और कीमत
OPPO A18 Discount मिल रहा है 1000 रुपये का डिस्काउंट, सिर्फ ₹8,999 में फ़ोन मिलने वाला है Top 5 scam movies : घोटाले पे बनी यह 5 फिल्म आपको जरूर देखनी चाहिए Tank 2 Smartphone आ रहा है 15500 mAh की बैटरी के साथ , जानिये फीचर्स Tecno Phantom V Fold 5G Features Asus ROG Phone 8 Launch Date in india जानिए फीचर्स और कीमत