Jyothy Labs Success Story: कभी घर घर जा कर प्रोडक्ट्स बेचते थे, आज है 14000 करोड़ की कंपनी!

Jyothy Labs Success Story: आज हम बात करने वाले है Jyothy Labs के बारे में। उनके बारे में ज्यादा लोग जानते नहीं होंगे लेकिन आप लोगो ने उजाला का नाम तो सुना ही होगा। आपने अभी न अभी तो उजाला का इस्तेमाल तो किया ही होगा।

Jyothy Labs के बारे में बात करे तो इन्होने बड़ी बड़ी FMCG को पीछे छोड़ दिया है। Jyothy Labs के भीतर बहुत सारी ब्रांड्स आती है – उजाला, Maxo, Exo, Henko, Mr. White, Chek, Pril, Margo, Neem and Fa . इतनी बड़ी ब्रांड होने की बावजूद बहुत सारे लोगो को इनके फाउंडर के बारे में मालूम नहीं होगा।

आज हम इस आर्टिकल में Jyothy Labs Success Story के बारे में देखने वाले है।

Jyothy Labs Success Story
Jyothy Labs Success Story

Jyothy Labs फाउंडर

Jyothy Labs के फाउंडर का नाम M.P. Ramchandran है। वह केरल के त्रिशूर के रहने वाले है। उन्हों ने अपनी पढाई के बाद एक जॉब शुरू किया था लेकिन उनका मन तो पहले से ही बिज़नेस करने में था तो वह लग गए बिज़नेस का आईडिया ढूंढने के लिए।

कैसे आया आईडिया ?

एक दिन ऐसा हुआ की वो वो कपडे धोते हुए लोगो को देख रहे थे। बाद में उनको वहा से आईडिया आया ही कपड़ो की लिए मार्किट में कोई अच्छा व्हाइटनर नहीं हैं। बाद ने क्या था वो लग पड़े एक अच्छा व्हाइटनर बनाने में ऐसे शुरू हुई उनकी कहानी।

Jyothy Labs Success Story
Jyothy Labs Success Story

व्हाइटनर बनाना तो था ही कहा बनाये इसी चक्कर में उन्हों ने अपने किचन से ही फार्मूला बनाने का चालू किया। वो बहुत बार फैल होते रहे लेकिन उन्होंने कभी हार नहीं मानी। कुछ साल की मेहनत के बाद उनको आखिरकार सफलता मिल गयी। वो नए व्हाइटनर बनाने में कामयाब हुए , लेकिन अब बारी थी बाजार में बेचने की।

उधारी के पैसे से चालू किया बिज़नेस

रामचंद्रन ने बिज़नेस करने का इरादा तो मजबूत कर दिया था लेकिन बात थी पैसे की , तो उन्हों ने अपने भाई के पास से ₹5000 उधार लिए थे। Jyothy Labs को रामचंद्रन ने 1983 में शुरू किया था। Jyothy Labs का नाम उनकी बेटी ज्योति के नाम पर रखा गया है। सबसे पहले उन्हों ने बिज़नेस केरल के त्रिशूर में अपनी पारिवारिक जमीन पर ही शुरू की थी।

आज उनकी मेहनत से कंपनी करोडो की बन गयी है। बार बार फैल होने के बाद भी कामयाब होने का जुस्सा उनसे सिखने जैसा है।

छह लोगो के साथ काम चालू किया – Jyothy Labs Success Story

रामचंद्रन ने अपने शुरुआती दिनों में सिर्फ 6 लोगो के साथ काम चालू किया था। सबने घर घर जाके प्रोडक्ट बेचने में बहुत की मेहनत की। उनकी प्रोडक्ट अच्छी थी तो लोगो को काफी पसंद आने लगी। बहुत ही जल्द उजाला सुप्रीम लिक्विड फैब्रिक व्हाइटनर का नाम लोगो के दिल में बस गया।

Jyothy Labs Success Story
Jyothy Labs Success Story

शुरुआत में उनकी प्रोडक्ट साउथ भारत तक ही सिमित था बाद में 1997 के बाद उनका प्रोडक्ट पुरे भारतीय बाजार में प्रसिद्ध हो गया।

14000 करोड़ की कंपनी बनने तक का सफर

उनका प्रोडक्ट लोगो के दिल में बस गया तब उन्हों ने दूसरे प्रोडक्ट पर भी काम चालू कर दिया। उनकी कंपनी 17 साल बाद 100 करोड़ की बन गयी। बाद में उन्हों ने पीछे मुड़ के नहीं देखा।

उन्हों ने छह पावर ब्रांड बनायीं – जैसे की हेन्केल, उजाला, हेन्को, मैक्सो, प्रिल, एक्सो और मार्गो शामिल है। यह सब ब्रांड्स ज्योति लेबोरेटरीज के भीतर ही आती है। उनका ज्यादातर मार्केटिंग घर घर जा कर प्रोडक्ट बेचने से ही होता है।आज, उजाला के पास लिक्विड फैब्रिक क्षेत्र में राष्ट्रीय स्तर पर बड़ी हिस्सेदारी है।

Jyothy Labs Interview

वैसे तो वो ज्यादातर मीडिया से दूर ही रहते है। लेकिन उनका एक इंटरव्यू हम देखते है।

उजाला नील बनाने वाली ज्योति लेबोरेटरीज लिमिटेड के संस्थापक एम.पी.रामचंद्रन अपनी मेहनत और लगन से लाखों युवा उद्यमियों के लिए मिसाल बने हैं।

ALSO READ:

OPPO A18 Discount मिल रहा है 1000 रुपये का डिस्काउंट, सिर्फ ₹8,999 में फ़ोन मिलने वाला है Top 5 scam movies : घोटाले पे बनी यह 5 फिल्म आपको जरूर देखनी चाहिए Tank 2 Smartphone आ रहा है 15500 mAh की बैटरी के साथ , जानिये फीचर्स Tecno Phantom V Fold 5G Features Asus ROG Phone 8 Launch Date in india जानिए फीचर्स और कीमत
OPPO A18 Discount मिल रहा है 1000 रुपये का डिस्काउंट, सिर्फ ₹8,999 में फ़ोन मिलने वाला है Top 5 scam movies : घोटाले पे बनी यह 5 फिल्म आपको जरूर देखनी चाहिए Tank 2 Smartphone आ रहा है 15500 mAh की बैटरी के साथ , जानिये फीचर्स Tecno Phantom V Fold 5G Features Asus ROG Phone 8 Launch Date in india जानिए फीचर्स और कीमत